Home Reader News मिशन में जुट गए नीलेकणी

मिशन में जुट गए नीलेकणी

3
0
SHARE

होमकंपनियाखबर
मिशन में जुट गए नीलेकणी
आयान प्रामाणिक और रघु कृष्णन / बेंगलूरु August 25, 2017
इन्फोसिस में वापसी के एक दिन बाद आज नंदन नीलेकणी ने कहा कि वह कंपनी में स्थायित्व लाने तक इसकी जिम्मेदारी संभालेंगे। उनकी प्राथमिकता नए मुख्य कार्याधिकारी की नियुक्ति, निदेशक मंडल का नए सिरे से विस्तार तथा भविष्य में विकास के लिए रणनीति बनाना शामिल है। नीलेकणी ने कहा, ‘मैं यहां तब तक रहूंगा जब तक जरूरी होगा और जब मेरी जरूरत खत्म हो जाएगी मैं चला जाऊंगा।’
नीलेकणी ने अपनी जिम्मेदारी संभालते ही आज इन्फोसिस के अंतरिम मुख्य कार्याधिकारी एवं प्रबंध निदेशक यू बी राव की अगुआई में शीर्ष के साथ विचार-विमर्श किया। कंपनी नेतृत्व के साथ अलग से बैठक के बाद नीलेकणी ने कार्याधिकारियों की भूमिका के बारे में जानकारी ली, वहीं उन्होंने सभी से संबंधित कारोबार के बारे में जानकारी देने को कहा। इसमें पूर्व मुख्य कार्याधिकारी विशाल सिक्का की योजनाओं, उनके द्वारा तय किए गए लक्ष्यों तथा उसके क्रियान्वयन या राजस्व के मामले में उसकी स्थिति का भी जायजा लिया।
उन्होंने कंपनी के लिए अगले लक्ष्य तय करने के लिए प्रमुख कार्याधिकारियों के साथ एक छोटे ‘रणनीतिक समूह’ का गठन किया है, जिनमें मुख्य वित्त अधिकारी एमडी रंगनाथ, विलय एवं अधिग्रहण प्रमुख दीपक पडकी, उप मुख्य परिचालन अधिकारी रवि कुमार एस और मोहित जोशी शामिल हैं।
नीलेकणी ने बोर्ड की स्वतंत्र निदेशक तथा नए मुख्य कार्याधिकारी की तलाश करने वाली समिति की प्रमुख किरण मजूमदार शॉ से नए सीईओ के चयन की प्रक्रिया शुरू करने को कहा। उन्होंने संकेत दिया कि सीईओ के लिए कंपनी में कार्यरत लोग, पहले काम कर चुके लोग या बाहर के लोग, सभी को परखा जाएगा।
नया सीईओ ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जो चुनौती पूर्ण वैश्विक माहौल के बीच कंपनी की रणनीति को आगे बढ़ाने की क्षमता रखता हो, वहीं कारोबार संचालन के उच्च मानकों का भी ध्यान रखने वाला हो।
नीलेकणी ने कहा, ‘मुझे कई ईमेल प्राप्त हुए हैं और हम उपयुक्त उम्मीदवार की तलाश कर रहे हैं जो व्यापक वैश्विक सहयोग के साथ प्रबंधन की विशेषज्ञता प्रदर्शित करने में सक्षम हो और कंपनी की रणनीति के क्रियान्वयन एवं इन्फोसिस में जारी सांस्कृति बदलाव की सराहना करता हो।’ इन्फोसिस की चुनौतियों से वाकिफ नीलेकणी ने कहा, ‘इन्फोसिस में अपने पूर्व के कार्यकाल तथा आधार में काम करने के दौरान मैंने यह सीखा कि अगर आप परिणाम देने में सक्षम हैं तो, बाकी चीजें कोई मायने नहीं रखती।’
नीलेकणी ने कहा, ‘जैसा कि आप जानते हैं कि आधार परियोजना को एक सरकार ने शुरू किया और फिर दूसरी सरकार ने उसे पुरजोर तरीके से आगे बढ़ाया तो आप समझ सकते हैं कि मैंने किस तरह का सामंजस्य विकसित किया है। मैं यहां भी उसी तरह का समन्वय कौशल लाऊंगा।’
उन्होंने कहा, ‘मैं एन आर नारायणमूर्ति का प्रशंसक हूं। वह दिग्गज और दूरदर्शी व्यक्ति हैं तथा वह तकनीकी रूप से वह देश में कंपनी संचालन के मानकों के जनक हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मेरी कोशिश रहेगी कि इन्फोसिस, नारायणमूर्ति एवं अन्य संस्थापकों के बीच अच्छे संबंध बने रहें।’
उन्होंने सभी हितधारकों के साथ सर्वसम्मति बनाने, पारदर्शिता लाने पर जोर दिया, साथ ही सिक्का के दृष्टिïकोण को अपनाने का भी विकल्प खुला रखा है, जिन्होंने इन्फोसिस को शुद्घ आईटी सेवा फर्म से सॉफ्टवेयर प्लस सर्विस फर्म बनाने की दिशा में काम किया है।
नीलेकणी ने कहा, ‘मैं यह सुनिश्चित करूंगा कि कंपनी में किसी तरह का मनमुटाव न हो और सभी एकमत से काम करें।’

मूर्ति संग विवाद को बताया दुर्भाग्यपूर्ण
नए चेयरमैन नंदन नीलेकणी की अध्यक्षता में इन्फोसिस बोर्ड ने कंपनी के संस्थापक एनआर नारायणमूर्ति के साथ विवाद को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि उनका इरादा कभी भी उन्हें व्यक्तिगत तौर पर दुख पहुंचाना नहीं था। बोर्ड बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए इन्फोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणी ने कहा, ‘बोर्ड का ध्यान कंपनी में स्थायित्व लाना होगा और उन्होंने निदेशकों की समिति को सीईओ तथा प्रबंधन के साथ अक्टूबर तक कंपनी की रणनीति को नए सिरे से तैयार करने का लक्ष्य दिया गया है।’ उन्होंने कहा कि उनका लक्ष्य सर्वसम्मति विकसित करना, स्थायित्व लाना और सभी शेयरधारकों का प्रतिनिधित्व करना है। उन्होंने कहा, ‘विपरीत परिस्थितियों में काम करने का मेरा रिकॉर्ड रहा है।’ नीलेकणी ने कंपनी के बयान को पढ़ते हुए कहा कि बोर्ड कंपनी के भविष्य और अच्छे कारोबारी प्रशासन पर ध्यान केंद्रित करेगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह छोटे और बड़े सभी निवेशकों से इन्फोसिस में कंपनी संचालन से जुड़े मुद्दों पर उनके विचार जानेंगे। उन्होंने कहा कि वह 20 करोड़ डॉलर की पनाया खरीदारी के बारे में कथित गड़बड़ी की जांच को लेकर पूरी जानकारी लेंगे। एजेंसियां

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here