Home Global News भारत ने गंदा खेल जारी रखा तो हमले का जवाब हमले से...

भारत ने गंदा खेल जारी रखा तो हमले का जवाब हमले से देंगे: चीनी मीडिया

67
0
SHARE
janvani news

दलाई लामा को भारत द्वारा अरुणाचल प्रदेश के दौरे की इजाजत से चीन काफी खफा है। चीन के स्टेट मीडिया ने गुरुवार को धमकी देते हुए कहा- अगर भारत ये गंदा खेल जारी रखता है तो हमले का जवाब हमले से ही दिया जाएगा। बता दें कि चीन ने भारत को वॉर्निंग दी थी कि वो दलाई लामा को अरुणाचल प्रदेश जाने की मंजूरी ना दे, लेकिन भारत ने इसे नजरअंदाज कर दिया था। इशारों में कश्मीर में दखल की धमकी…

– चीन के दो लीडिंग इंग्लिश डेली ने दलाई लामा की अरुणाचल विजिट पर गुरुवार को आर्टिकल पब्लिश किए। ये दो अखबार हैं – चाइना डेली और ग्लोबल टाइम्स।
– बता दें कि चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री ऑफिशियल स्टेटमेंट कम जारी करती है। वहां का स्टेट मीडिया ही सरकार का नजरिया दुनिया के सामने लाता है।
– दलाई लामा के अरुणाचल जाने से ठीक पहले केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरण रिजिजू ने कहा था कि अरुणचाल भारत का अटूट हिस्सा है।
– डेली टाइम्स ने रिजिजू के बयान पर कहा कि भारत तिब्बती धर्मगुरु को डिप्लोमैटिक टूल की तरह इस्तेमाल कर रहा है। आर्टिकल में ये भी कहा गया कि भारत ने ये कदम इसलिए उठाया क्योंकि चीन ने एनएसजी में उसकी एंट्री नहीं होने दी।
चीन के लिए दिक्कत
– चाइना डेली ने भारत के रवैये को साफ तौर पर ‘फ्यूचर में आने वाली दिक्कत’ बताया। इसमें कहा गया कि ताइवान और तिब्बत की तरह अरुणाचल भी उसी का हिस्सा है। ये बात और है कि भारत इसे तवज्जो देता है या नहीं।
– हालांकि, इसी आर्टिकल में भड़काउ बातों से बचने की कोशिश भी नजर आती है। मसलन, एक जगह कहा गया है कि तमाम विवादों के बावजूद भारत और चीन की सीमाओं पर शांति रही है। बीजिंग अमन के लिए हो रही बातचीत को गंभीरता से ले रहा है।
– बता दें कि चीन ने बुधवार को भारत के एम्बेसडर विजय गोखले को फॉरेन मिनिस्ट्री तलब कर दलाई लामा की अरुणाचल विजिट पर विरोध दर्ज कराया था। दलाई लामा 9 दिन की अरुणाचल विजिट पर हैं।
इशारों-इशारों में धमकी
– ग्लोबल टाइम्स ने लिखा, ‘दोनों देश अमन चाहते हैं। हालांकि, रिश्ते सुधरने का ज्यादा फायदा भारत को हुआ है। अगर भारत दुश्मनी वाला रवैया ही जारी रखता है तो क्या वो इसके नतीजों के लिए भी तैयार है?’
– ‘चीन की जीडीपी भारत से कई गुना ज्यादा है, मिलिट्री पावर भी भारत से बेहतर है। भारत के कुछ राज्यों मे दिक्कतें हैं और इनकी बॉर्डर चीन से लगती है।’ दरअसल, अखबार कश्मीर की तरफ इशारा कर रहा है, जहां पाकिस्तान की शह पर आतंकी आए दिन हिंसा फैलाते हैं।
– कश्मीर का नाम लिए बगैर आर्टिकल में चीन की उलझन की तरफ भी इशारा किया गया है। इसमें कहा गया- अगर, बीजिंग जियोपॉलिटिकल चीजों में उलझ गया तो क्या वो भारत से हार जाएगा? क्योंकि बीजिंग तो नई दिल्ली को दोस्त के तौर पर देखता है।
– आखिर में लिखा गया- दलाई लामा का सवाल दोनों देशों के रिश्तों को खराब कर सकता है। भारत एनएसजी और अजहर मसूद के मुद्दे पर चीन से खफा है। भारत के लोग चीनी प्रोडक्ट्स के बायकॉट की धमकी भी देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here